Ad Code

Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke Top 5 Best Meditaion In Hindi

Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke

Meditaion Benefits Dimag Tej Karne Ke Top 5 Best Meditaion In Hindi

 Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke आज हम इस पोस्ट में जानेंगे की हम अपनी दिमाग की शक्ति को कैसे बढ़ा सकते हैं। यह महत्वतूर्ण जानकारी उन सभी विद्यार्थीयो के लिए बहुत ही अहम जानकारी साबित होगा, जिन विद्यार्थीयो को याद न होने की समस्या से बहुत परेशान होना पड़ता हैं।

ऐसे विद्यार्थी कितना भी पढ़ते है पर उन्हें याद करने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, उन्हें समझ नहीं आता क्या करें और वे बहुत निराश हो जाते हैं।

आज हम इस निराशा को दूर करने के लिए यह पोस्ट आप सभी दोस्तों के लिए लेकर आए हैं, इससे आपको बहुत लाभ होने वाला है क्योकि इसे हमने खुद भी आजमाया है।

यह मेडिटेशन आपके दिमाग की पॉवर को पहले से ज्यादा बढ़ा कर उसे सुचारु रूप से काम करने में मदद करेगा, इससे आपके याददास्त, एकाग्रता, ध्यान केंद्रित करने की शक्ति में बढ़ोतरी होगी।

साथ ही इसका आपके स्वास्थ पर भी बहुत अच्छा प्रभाव पड़ेगा, तो चलिये जानते हैं Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke Top 5 Best Meditation In Hindi.

Top 5 Best Yoga For Brain

1. अनुलोम विलोम 

अनुलोम विलोम प्राणायाम एक विश्व प्रसिद्ध प्राणायाम हैं जो पूरी दुनिया में किया जाता हैं, यह प्राणायाम दिमाग की याददास्त, एकाग्रता और ध्यान केंद्रित करने के लिए बहुत ही लाभदायक योग है।

जो विद्यार्थीओ के लिए बहुत असरदार साबित हुआ हैं, इस प्राणायाम के अन्य फायदे की बात करें तो इससे आपके फेफड़े को मजबूती मिलता है।

यह स्वस्थ Heart के लिए बहुत फायदेमंद हैं इस प्राणायाम को अगर आप नियमित रूप से करते है तो आपको तनाव और चिंता से मुक्ति मिलती हैं, यह आपके पुरे शरीर शुद्ध ऑक्सीजन की पूर्ति को बढ़ाता हैं इसे नाड़ी शोधक प्राणायाम भी कहते है।

प्राणायाम करने की विधि 
  • सबसे पहले आप एक साफ, स्वच्छ और शुद्ध वातावरण का चुनाव कर लें फिर चटाई या योगा मेट नीचे जमीन पर बिछा लें।
  • पद्मासन में बैठ जाये फिर अपने दाये नथुने बंद कर बायें नथुने से लम्बी साँस ले फिर बाएं नथुने बंद कर दाये से साँस छोड़े ।
  • फिर इसी तरह बाएं नथुने बंद कर दाये से लम्बी साँस लें और दाये नथुने बंद कर बाएं से साँस छोड़े।  
  • इस प्रक्रिया को शुरुवात में 5 से 7 मिनट तक दोहराएं फिर हर हफ्ते 5 -5  मिनट इसकी अभ्यास बढ़ा दें।
  • आप इसे आराम से करें जल्दी जल्दी करने की कोशिश न करें। 
  • हम यह कहना चाहेंगे की इस प्राणयाम को आप सुबह के समय करेंगे तो ज्यादा लाभ होगा वैसे आप शाम को भी कर सकते है पर शाम को शुद्ध वातावरण होना थोड़ा मुश्किल होता हैं।

2. भ्रामरी प्राणायाम 
भ्रामरी प्राणायाम एक बहुत ही साधारण सा दिखने वाला पर काफी लाभदायक प्राणायाम है, जिसे आप कही पर भी बैठ कर सकते हैं यह प्राणायाम आपके मस्तिष्क को शांति प्रदान करता है।

जिससे आपकी याददास्त और एकाग्रता बढ़ती हैं अगर आपको मानसिक तनाव, चिंता या बहुत ज्यादा गुस्सा आता हैं तो यह प्राणायाम आपके लिए काफी मददगार साबित होगा। साथ ही इसके प्रतिदिन के अभ्यास से बुद्धि शक्ति का विकास बहुत तेजी से होता हैं और आपके मन को बहुत शांति भी मिलेगा, जिसका सबसे अच्छा परिणाम विद्यार्थीओ पर देखने को मिलता हैं।

प्राणायाम करने की विधि 
  • सबसे पहले आपको एक साफ और स्वच्छ वातावरण का चयन करना होगा जहाँ पर्याप्त मात्रा में शुद्ध वायु का प्रवाह हो।
  • उसके बाद आपको नीचे जमीन पर पद्मासन में बैठ जाना है इसके बाद दो मिनट आँखों को बंद करके अपने सांसो को महसूस करें।
  • अपने तर्जनी ऊँगली अथार्थ इंडेक्स फिंगर से कान को बंद करके रखें फिर एक गहरी साँस लेना हैं।
  • ॐ का उच्चारण लेते हुए साँस को छोड़ना है इसी तरह इस पुरे प्रक्रिया को 7 से 10 मिनट तक आराम से धीरे धीरे सांसो को महसूस करते हुए करें।

3. भुजंग आसन 
हममें से कई लोग भुजंग आसन के बारे में अच्छे से जानते ही होंगे क्योकि आज योग घर - घर तक पहुंच चूका है यह काफी प्रचलित आसन हैं। भुजंग का अर्थ सर्प होता है यह एक संस्कृत शब्द हैं, योग की दुनिया में भुजंग आसन काफी प्रचलित हैं जिसे हर कोई आसानी से भी कर सकता है। भुजंग आसन हमे तनाव मुक्त और चिंता मुक्त रखने में मदद करता हैं।

जिसके प्रतिदिन के अभ्यास से हमारा मानसिक विकास अच्छे से होता हैं और दिमाग पहले से ज्यादा एकाग्रता के साथ काम करता है। भुजंग आसन के अन्य फायदे में यह आसन पेट की चर्बी को कम करने और पाचन तंत्र को अच्छा रखने में सहायक होता हैं, अगर आपको भी कब्ज की समस्या रहती है तो यह आसन आपके लिए फायदेमंद होगा।

आसन करने की विधि 
  • आपको एक साफ स्वच्छ हवादार वातावरण का चयन कर लेना होगा।
  • फिर नीचे चटाई या योगा मेट बिछा कर आराम से पेट के बल लेट जाएं आपके पैर सीधे होने चाहिए।
  • फिर आपको दोनों हाथो के पंजे को ठीक अपने कंधो के समानांतर रखना है।
  • हाथ के पंजो का सहारा लेते हुए आँखों को बंद रखते हुए एक लम्बी साँस लेते हुए अपनी बॉडी को धीरे - धीरे ऊपर उठना है।
  • आपकी आंखे आकाश की ओर होना चाहिए फिर आँख खोल लेनी है, और सांसों की सामान्य गति रखते हुए उसी मुद्रा में 20 से 30 सेकंड तक रहना है। 
  • आपको पुनः सामान्य स्थिति में साँस छोड़ते हुए आना है इसी तरह आप इसका 5 से 7  बार अभ्यास करें हर हफ्ते आप चाहो तो एक सेट बढ़ा सकते है।

4. वज्रासन 
अगर आपको ऐसा लगता है की आप किसी एक जगह पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहें और आपका मन बहुत भटक रहा है तो यह वज्रासन आसन आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगा।

इस आसन का मुख्य उद्देश्य मन को शांत कर उसे एकाग्रचित करना होता है, इससे आपके पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में लाभदायक सिद्ध होगा।

इसके साथ ही यह सभी आसनों में एक मात्रा आसन से जिसे आप खाने के बाद कर सकते है, इसके अन्य लाभ में यह पेट की गैस समस्या को दूर करता है और पाचन तंत्र को बेहतर करता हैं।

वज्रासन आसन को करने से आपके मस्त्तिष्क में रक्त का संचार अच्छे तरीके से होता है और रीढ़ की हड्डीओं को मजबूती प्रदान करता इसलिए इसका नाम वज्रासन पड़ा।

आसन करने की विधि 

  • आपको एक साफ स्वच्छ और हवादार वातावरण का चयन कर लेना होगा जहा किसी प्रकार का शोर न हो।  नीचे चटाई या योग मेट बिछा कर उस पर आपको घुटने को मोड़ते हुए बैठना हैं।
  • आपके पैर के अँगूठे आपस में छूने चाहिए पर घुटनो के बीच कुछ अंतर अवस्य होना चाहिए।
  • ऐसा करने के बाद आपको अपने दोनों हथेलियों के पंजे को अपने जाँघ के ऊपर रखना है और सामान्य गति से लम्बी गहरी साँस लें इस प्रक्रिया को आप 5 से 8 मिनट तक करें।

5. ताड़ासन
ताड़ासन को माऊंटेन पोज़ भी कहते हैं यह कई अन्य प्रकार के आसनों का आधार माना जाता हैं यह सबसे सामान्य आसनों में से एक है जिसे कोई भी आसानी से कर सकता हैं।

इस आसान को करने से हमारे शारीरिक और मानसिक संतुलन को विकसित सही तरीक़े से होता हैं जिससे ध्यान केंद्रित करने में भी आसानी होता हैं।

इसके अन्य लाभ में यह आसन जांघो, एड़ियों और घुटनों के लिए अच्छा माना गया हैं जो इन्हे मजबूती प्रदान करता हैं।

यह रीढ़ की हड्डिओं से सम्बंधित बीमारियों में भी लाभदायक होता हैं यह शरीर के लम्बाई को बढ़ाने में भी सहायक होता है और घुटनो को मजबूती प्रदान करता हैं।

आसन करने की विधि 
  • यह आसन क्योंकि खड़े होकर किया जाता है इसलिए आपको पहले खड़े हो जाना हैं, जैसे आप सामान्य रूप से खड़े होते है बिलकुल वैसा ही।
  • फिर अपने दोनों हाथों को धीरे - धीरे ऊपर उठाते हुए सर के ऊपर लाना हैं। 
  • अपने दोनों हाथो के हथेलिओं को आपस में मिला लेना हैं फिर अपने दोनों एड़ियों को सांस लेते हुए धीरे - धीरे ऊपर उठाये।
  • इस अवस्था में कुछ सेकंड रुके सांसो की गति सामान्य रखें फिर पुनः अपने प्रांरभ स्थिति में आ जाएं, इस पुरे प्रक्रिया को 5 से 7 बार अभ्यास करें।
Also Read :
निष्कर्ष 
यह थे वह Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke Top 5 Best Meditaion जो आपके मस्तिष्क के विकास में सहायक होंगे, जो आपको याददास्त, एकाग्रता और ध्यान केंद्रित करने में आपकी मदद करेंगे।

अगर आप इन प्राणायाम और आसनो को सही विधि से करते है तो आपको इसके अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। साथ ही हम आप सभी से यह भी कहना चाहेंगे जो की बहुत आवश्यक है।

आप कोई भी आसन और प्राणायाम करने से पहले किसी योग विशेषज्ञ या डॉक्टर से सलाह जरूर ले, क्योकि हो सकता है आपको किसी प्रकार की समस्या हो ऐसे में योग करते समय कुछ सावधानी भी बहुत जरुरी है।

 इसलिए किसी भी प्रकार का योग करने से पहले सलाह जरूर ले लें, पर अगर आप पूरी तरह स्वस्थ और तंदरुस्त हो तो आप यह सारे आसन आसानी से घर पर कर सकते है पर सही विधि से करना जरुरी है।


हम आशा करते है की आप सभी को हमारी यह महत्वपूर्ण जानकारी  Meditation Benefits Dimag Tej Karne Ke Top 5 Best Meditation आपको पसंद आया होगा। और अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छा लगा हो तो नीचे कमैंट्स करके जरूर बताये।

साथ ही इस जरुरी जानकारी को अपने दोस्तों और परिवार में भी शेयर जरूर करे, अगर आपका किसी भी तरह का आपका मन में कोई सवाल है तो आप कमैंट्स करके पूछ सकते है, साथ ही हमसे जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते हैं।
Thanks For Reading...

Post a Comment

0 Comments

Close Menu